सैफ का कॉमिक अंदाज़ और अलाया की मासूमियत बांधे रखने की कोशिश करती है

सैफ का कॉमिक अंदाज़ और अलाया की मासूमियत बांधे रखने की कोशिश करती है


जवानी जानेमन फ़िल्म रिव्यु, नए दौर की पीड़ी प्यार के नए पैमाने बना रही है जिसे शायद अभी इंडियन पब्लिक को पचा पाना मुश्किल है इसीलिए निर्देशक नितिन कक्कर ने जवानी जानेमन फ़िल्म में देशी रिश्तो को मोर्डेन ताने बाने के साथ विदेशी प्रष्टभूमि पर फ़िल्माया है जवानी जानेमन फ़िल्म को पूरी तरह से यूथ को ध्यान में रखकर बनाया गयी है जिसमे मुख्य किरदार में सैफ अली खान और अलाया फर्नीचरवाला है ये फ़िल्म पिता जैज़ उर्फ़ जस्सी उर्फ़ जसविंदर सिंह (सैफ अली खान) और बेटी टीया (अलाया फर्नीचरवाला) के बीच इमोशनल बोन्डिंग को भी दर्शाती है


JAWAANI JANEMAAN Film Duration & Cast and Crew


Release date-31 January 2020
Film Duration: 1 Hr 59 min (119 min) 
Genre-Comedy / Drama / Romance
Cast (कास्ट) : सैफ अलीक खान, तब्बू, अलाया एफ, कुमुद मिश्रा, फरीदा जलाल, चंकी पांडे, कुब्रा सैत
Director (निर्देशक) : नितिन कक्कर
Producer (निर्माता) : जैकी भगनानी, दीपशिखा देशमुख, सैफ अली खान, जय शेवाकरमणि
Writer (लेखक) : हुसैन दलाल और अब्बास दलाल (संवाद) 
Music (संगीत) : रोशिन, तनिष्क बागची, प्रेम और हरदीप
Cinematographer (छायाकार) : मनोज कुमार खतोई
Rating (रेटिंग) : 2.5⭐स्टार (5⭐में से) 


जवानी जानेमन मूवी रिव्यु (JAWAANI JANEMAAN Full Movie Review) 

आज़ाद ख्याल और जिम्मेदारी को कबूल ना करने वाला पिता जैज़ उर्फ़ जस्सी उर्फ़ जसविंदर सिंह (सैफ अली खान) अपनी बेटी टीया (अलाया फर्नीचरवाला) को सामने देख उसका कैसे ह्र्दय परिवर्तन हो जाता है वह भी तब जब टीया प्रेग्नेनेट है जिसे उसके बॉय फ्रैंड ने छोड़ दिया है| 

लेकिन वह बच्चे को जन्म देने का फैसला लेती है इस प्लाट को हम पहले "क्या कहना" फ़िल्म में देख चुके है जिसे जवानी जानेमन में फिर से भुनाने की कोशिश की गयी है वैसे जवानी जानेमन की बात करे तो पूरी फ़िल्म में अगर सैफ अली खान को हटा दे तो फ़िल्म में कुछ कहने को नहीं बचेगा |

हालाँकि सैफ अली खान अपनी कॉमिक अंदाज़ से फ़िल्म को बाँधने की कोशिश करते है लेकिन कमजोर कहानी पर वह हावी होते नज़र आते है जिसे निर्देशक नितिन कक्कर संभाल सकते थे लेकिन वह चूक गए।

फ़िल्म का निर्माण यंग जनरेशन को ज़हन में रख कर किया गया है लेकिन इससे शायद ही वह कनेक्ट हो पाए इस फ़िल्म से पूजा बेदी की लड़की आलिया फर्नीचरवाला बॉलीवुड में अपना कदम रख रही है और उनकी मासूमियत और एक्टिंग से उनसे उम्मीद की जा सकती है,
कि वह भविष्य में अच्छा करेंगी लेकिन इस फ़िल्म में वह करिश्मा नहीं बिखेर पाई हालाँकि आलिया फर्नीचरवाला स्क्रीन पर फ्रेश और खुबसुरत लगी है लेकिन अभी उन्हें बहुत मेहनत की ज़रुरत है।

फ़िल्म का निर्देशन और कहानी भी काफ़ी वीक है जिसे हर बार सैफ ही संभालते हुए दीखते है फ़िल्म का पहला हाफ तेज़ी से भागता है और सीधे अपने मुद्दे पर आ जाता है और दूसरा हाफ उतना ही स्लो हो जाता है फ़िल्म की कहानी को आप पहले से प्रिडिक्ट कर सकते है कि अंत क्या होगा?

जवानी जानेमन मूवी की कहानी (JAWAANI JANEMAAN Film Story) 

फ़िल्म की कहानी शुरू होती है जैज़ उर्फ़ जस्सी उर्फ़ जसविंदर सिंह के बिंदास आज़ाद ख्याल के अंदाज़ से वह 40 की उम्र में भी अपने ऊपर बीबी बच्चों और परिवार के भोझ को उठाना नहीं चाहता बस वह अपनी दुनिया में खुश है। वह अपने भाई पम्मी (कुमुद मिश्रा) के साथ स्टेट ब्रोकर का काम देखता है। लेकिन उसका काम में कम पब, पार्टी और लड़कियों को पटाने में जाएदा रहता है।

इसी बीच पम्मी (कुमुद मिश्रा) और जैज़ (सैफ) को एक बहुत बड़ी लैंड की डील मिलती है उस लैंड को खली कराने का जिम्मा जैज़ के जिम्मे रहता है लेकिन मिसेस मालिक इस डील में-में रोड़ा बन जाती है। मिसेस मालिक जैज़ की माकन मालकिन भी है जिनका काफ़ी दिनों से जैज़ ने रेंट नहीं दिया है। क्योंकि वह सारा पैसा दिन रात पार्टी और पब और लड़कियों उडाता रहता है| 

लेकिन एक दिन उसकी ज़िन्दगी में टिया नाम की लड़की आ जाती है जिसे जैज़ अपने घर ले जाता है लेकिन टीया उसे बताती है कि वह उसका पिता है और उसे डीएनए टेस्ट करवाना पड़ेगा। जिसके लिए जैज़ बमुश्किल तैयार हो जाता है लेकिन उसे पूरा भरोसा है कि टीया उसकी बेटी नहीं है लेकिन डीएनए टेस्ट से पता चलता है कि जैज़ ही टीया का पिता है।

लेकिन डॉक्टर जैज़ और टिया को एक और खुशखबरी भी सुना देता है कि टिया माँ बनने वाली है। एक ही झटके में जैज़ 'सिंगल' से '21 साल की बेटी का पापा' और 'नाना' बन जाता है। उसकी पूरी दुनिया हिल जाती है। जैज़, जिसकी ज़िन्दगी का ज्यादातर समय अब तक पार्टियों में शराब पीते और खूबसूरत लड़कियों से दोस्ती करने की कोशिशों में बीता है| 

उसका पूरा सिस्टम इस खबर को सुनकर हिल जाता है। अब आगे क्या होगा? इस सवाल का जवाब न जस्सी के पास है, न टिया के पास। क्या टिया बच्चे को जनम देगी? क्या जैज़ टिया को पिता का प्यार मिलेगा? आगे की फ़िल्म इन दोनों किरदारों के इस सवाल का जवाब तलाशने की कहानी को बयाँ करती है।