डराने में असफल रही विक्की कौशल की भूत [भूत पार्ट-1 द हॉन्टेड शिप मूवी रिव्यू ]

डराने में असफल रही विक्की कौशल की भूत [भूत पार्ट-1 द हॉन्टेड शिप मूवी रिव्यू ]

#Bhoot Part-1 The Haunted Ship Movie Review साल 2003 में राम गोपाल वर्मा ने भूत नाम की फिल्म बनाई थी। अजय देवगन और उर्मिला मातोंडकर अभिनीत ये फिल्म सिमेमा हाल में रोंगटे खड़े कर देने वाली थी। जिसका बैकग्राउंड संगीत व हॉरर फिल्मों के एलीमेंट्स इतना ज़बरदस्त था की दर्शक उसे आज तक नहीं भूले होंगे। नए निर्माता ने भले ही राम गोपाल वर्मा से फिल्म का शीर्षक ले लिया हो लेकिन वो खौफ़ और हॉरर ट्रीटमेंट देने में नाकाम रहे आईये आगे जानते है की ये फिल्म किस सत्य घटना से प्रेरित होकर बनायीं गयी है।  

 Bhoot Part-1 the Haunted Ship Movie Duration & Cast and Crew
Release Date-21-FEB-2020
Film Duration: 1Hr 56 min
Genre- Horror- Drama
Cast (कास्ट): विक्की कौशल,भूमि पेडनेकर ,आशुतोष राणा,सिद्धान्त कपूर,मेहेर विज
Producer (निर्माता) - करण जौहर, शशांक खैतान
Director (निर्देशक): भानु प्रताप सिंह
Music (संगीत): अखिल सचदेवा, केतन सोढा
Cinematographer (छायाकार): पुष्कर सिंह
Rating (रेटिंग): ⭐⭐स्टार (में से)
 

# भूत पार्ट-1 द हॉन्टेड शिप मूवी रिव्यू (Bhoot Part-1 the Haunted Full Movie Review)

वर्ष व पर 2011 में मुंबई में जुहू बीच के किनारे गुजरात जाते हुए एक वीरान जहाज समुद्र तट पर आ गया था, जो करीब एक महीने तक वहीं खड़ा रहा। उसी से प्रेरित होकर निर्देशक और लेखक भानु प्रताप सिंह ने हॉरर कहानी गढ़ी है।

इस फिल्म का शीर्षक भले ही राम गोपाल वर्मा की भूत से लिया हो, लेकिन वो इस फिल्म में वो खौफ पैदा करने में नाकाम रहे। हॉरर फिल्मों के एलीमेंट्स नाकाफी थे साथ ही बैकग्राउंड म्यूजिक भी इतना ख़ास नहीं था जिससे कही पे भी डरका अनुभव हो सके  कुल मिला कर ये फिल्म हॉरर फिल्मो की श्रेणी के लायक भी नहीं लगती है।

कहानी के आरंभ में एक जहाज पर तीन साल की बच्ची का जन्मदिन मनाया जा रहा है। अचानक बच्ची सीढ़ी से उतरते हुए गायब हो जाती है। कहानी 1 साल आगे बढ़ती है। मुंबई में शिपिंग ऑफिसर पृथ्वी (विक्की कौशल) अपनी पत्नी (भूमि पेडणेकर) और बेटी की दुर्घटना में मौत होने की वजह से डिप्रेशन में है। इसके लिए वह खुद को जिम्मेदार मानता है। 

अचानक सीबर्ड नामक वीरान जहाज समुद्री तट पर आ जाता है। मीडिया उसे पड़ोसी देश की साजिश बताता है। पृथ्वी को जहाज को हटाने का जिम्मा सौंपा जाता है। जहाज के मुआयने के दौरान उसे वहां किसी के होने का आभास होता है। वह उसकी तफ्तीश में लगता है।

फिल्म में कई सवाल अनुत्तरित रह जाते हैं। मसलन, भूत ने पृथ्वी को क्यों नहीं मारा, जबकि उसे जहाज पर गए युगल प्रेमी की मौत हो जाती है। भूत पृथ्वी के घर आता है, लेकिन उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा। 

इसी तरह क्लाइमेक्स में वंदना (मेहर विज) के किरदार के साथ लेखक-निर्देशक के पास आपसी गिले-शिकवे के लिए बहुत कुछ दर्शाने को था, लेकिन उसे सपा तरीके से निपटा दिया गया। मीडिया का चित्रण करने से पहले फिल्म मेकर्स को रिसर्च की जरूरत थी। 

जहाज के तट पर आने पर टीवी पत्रकार का यह कहना कि मुख्यमंत्री जी, मैं आपसे सवाल पूछना चाहता हूं कि यह शिप यहां पर आया कैसे? बेहद हास्यास्पद है। बहरहाल, जिस सहजता से फिल्म मुंबई के आधुनिक परिवेश में भूत की कथा बुनी गई है |

उसी सहजता के साथ वह अंत तक नहीं पहुंचती। बतौर निर्देशक भानु प्रताप सिंह की यह पहली फिल्म है। उन्होंने फोकस पृथ्वी पर रखा है, जबकि उसका दोस्त भी जहाज पर उसके साथ जाता है। उसे बख्श देने की वजह भी अस्पष्ट है। 

विक्की कौशल पहली बार पहली हॉरर फिल्म का हिस्सा बने हैं। उन्होंने स्क्रिप्ट के दायरे में पृथ्वी की मनोदशा का चित्रण सटीक किया है। भूमि पेडणेकर मेहमान भूमिका में हैं। आशुतोष राणा मंझे कलाकार हैं। उनके किरदार को भले ही कैमियो बताया गया है| 

लेकिन उन्हे समुचित तरीके से चित्रण नहीं हुआ है। अच्छी बात यह है कि फिल्म में बेवजह गीत-संगीत डालने का प्रयास नहीं हुआ। फिल्म के अंत में दूसरा पार्ट बनाने के संकेत स्पष्ट हैं।

Bhoot: Part One - The Haunted Ship| Official Trailer | Vicky Kaushal | Bhumi Pednekar | Ashutoesh Rana | Trailer Download |


 

#TheHauntedShip #Karan Johar #Dharma Productions #Vicky Kaushal #Bhumi Pednekar #Horror #Scary #Horror Films #Bollywood # film# Review