OTT प्लेटफार्म से अपनी नयी पारी की शरुवात करता बॉलीवुड |

साल 2020 की ईद भी निकल गयी, सलमान की राधे, अक्षय कुमार की सूर्यवंशी और लक्ष्मी बम जैसी तमाम बड़ी मेगा स्टार फिल्मे सिनेमाघरों में रिलीज़ तक नहीं हो पायी है | वजह हम सब जानते है की कोरोना काल के चलते लॉकडाउन कुछ लम्बा ही खीच गया है| जिसका असर बॉलीवुड जगत पे भी देखने को मिला है | तीज त्योहारों पे दर्शको की भीड़ से खचाखच भरे सिनेमाघर वीरान पड़े है और बॉक्स ऑफिस पूरी तरह धडाम हो चूका है |

OTT प्लेटफार्म से अपनी नयी पारी की शरुवात करता बॉलीवुड |

बॉलीवुड OTT पे नयी पारी की शरुवात कर रहा है|


बॉलीवुड की OTT पे नयी पारी की शरुवात से सिनेमा जगत में अब नयी बहस छिड गयी है की क्या डायरेक्ट-टू-डिजिटल रिलीज़ कही थियेटर पे भरी न पड जाये? इसके चलते फिल्म उद्योग भी दो फाड़ में विभाजित हो गया है | इसकी शुरुवात गुलाबो सिताबो की OTT प्लेटफार्म रिलीज़ की घोषणा से शुरू हुई |आपको बता दे अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना अभिनीत शूजीत सिरकार की गुलाबो सिताबो, 12 जून को अमेज़न प्राइम वीडियो पर सीधे प्रीमियर करेगी। इसके बाद विद्या बालन-स्टारर शकुंतला देवी भी इसी प्लेटफार्म पे रिलीज़ होगी। और अब अक्षय कुमार की लक्ष्मी बम और करण जौहर की गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल सहित कई फिल्में डिजिटल रिलीज़ के लिए तैयार हैं।




इसको देखकर लगता है की फिल्म निर्माताओ ने भी इसका तोड़ निकाल लिया है क्यूंकि डिजिटल प्लेटफार्म पे फिल्म थियेटर रिलीज़ के बाद आया करती थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा | लम्बे समय से रिलीज़ को तरस रही फिल्मे सीधे OTT प्लेटफार्म पे रिलीज़ हो रही है | ‘गुलाबो सिताबो’ और ‘लक्ष्मी बम’ के बाद अगर डील फिट हुई तो सलमान की ‘राधे’ और अक्षय की ‘सूर्यवंशी भी आपको OTT प्लेटफार्म पर ही देखने को मिल सकती है |


खिलाडी कुमार की लक्ष्मी बम ने  पहले ही रिकॉर्ड तोड़ दिया


खिलाडी कुमार उर्फ़ अक्षय कुमार OTT पे भी अपना दबदबा कयाम रखते हुए पहले ही बाज़ी मार गए है |उनकी मोस्ट अवेटेड फिल्म लक्ष्मी बम डिस्नी हॉटस्टार पे रिलीज़ के लिए तैयार है |इस फिल्म में अक्षय के साथ ‘गुड न्यूज़’और ‘कबीर सिंह’ फेम कियारा आडवाणी नज़र आयेंगी |

इससे पहले कियारा अडवानी अपना डिजिटल डेब्यू Lust Stories, और Guiltyसे कर चुकी है तो उनके लिए ये प्लेटफार्म नया नहीं है |लेकिन अक्की यानि अक्षय कुमार के लिए ये प्लेटफार्म नया है इसी लिए लक्ष्मी बम को डिजिटल राइट्स 125 करोड़ में डिस्नी हॉट स्टार को बेचे गए है|
अमूमन देखा गया है की  किसी भी बड़ी फिल्म के डिजिटल राइट्स अधिकतम 60-70 करोड़ रुपये की कीमतों पर बेचे जाते हैं, लेकिन चूंकि यह फिल्म सिनेमाघरो में रिलीज नहीं होगी और सीधे डिजिटल पर नजर आएगी, इसलिए उन्होंने इसके लिए इतनी बड़ी कीमत हासिल की है।क्यूंकि अगर ये फिल्म आम तौर की दिनों की तरह थियेटर रिलीज़ होती तो ये फिल्म 200 करोड़ का अकड़ा पार करने का दम रखती है | खैर देखना होगा की क्या ये फिल्म दर्शको का भी ही उतना मनोरंजन कर पायेगी? लक्ष्मी बम तमिल हॉरर मूवी Muni 2: Kanchana का रीमेक है | 

कुछ पोस्ट प्रोडक्शन का काम के चलते लक्ष्मी बम फिल्म की अभी OTT रिलीज़ डेट फाइनल नहीं हुई है उम्मीद है की अभी अगले महीने यानि जून में रिलीज नहीं होगी।लेकिन 12 जून को अमेज़न प्राइम पे अमिताभ बच्चन और आयुषमान खुराना की फिल्म 'गुलाबो सिताबो' को इसका डिजिटल प्रीमियर होने वाला है।

यह भी पढ़े :-पूर्वांचल में 80 के दशक में माफियाओं के बीच कैसे खून की नदिया बही इसको पढने के लिए यहाँ क्लीक करे 

अब देखना होगा की पहले से ही पायरेसी की मार झेल रहे बॉलीवुड पे OTT प्लेटफार्म  का क्या असर होगा ?

फिल्मों को देखने के लिए घर से बाहर जाना और आराम करना अभी भी भारत में सामाजिक ताने-बाने में उलझा हुआ है। कुछ लोगो के लिए दोस्तों और फॅमिली के साथ बहार जाकर अच्छा भोजन और एक अच्छी फिल्म देखना अभी भी पहली चॉइस होती है | जो की फिल्म थियेटर की कमाई का एक प्रमुख स्रोत होता है। और बॉक्स ऑफिस कलेक्शन भी दर्शको के ऊपर ही निर्भर होता है | लेकिन जब बड़ी फिल्मे ओटीटी प्लेटफॉर्म का रुख कर लेंगी,तो थियेटर का व्यवसाय का क्या होगा ?
वैसे COVID-19 के कारण लॉकडाउनचल रहा है और सुरक्षा की दर्ष्टि के चलते सिनेमाघरों को बंद कर दिया गया | तो फिल्म प्रोड्यूसर्स ने थिएटर रिलीज़ के पारंपरिक मार्गों को छोड़ कर डिजिटल रिलीज़ का सहारा लिया है | लॉकडाउन की बदौलत कोई भी बॉलीवुड फिल्म सिनेमाघरों में नहीं रिलीज हो पायी है। फिल्मों के निर्माण कार्य भी पूरी तरह से ठप पड़ा है। कुछ फिल्में है जो तैयार थीं, वे भी सिनेमाघरों का मुह न देख सकीं।

लेकिन बंद डिब्बे में पड़ी फिल्मो के लिए  ये लॉकडाउन अच्छा साबित हुआ क्यूंकि उन्हें रिलीज़ का मौका मिल गया |जैसे परेश रावल के लड़के आदित्य रावल की बमफाड,तो नवाज़ की घूमकेतु, राजीव खंडेलवाल और संजय सूरी की अतीत  और मनोज बाजपाई और जैकलीन की MRs serial killer ये सब डिजिटली  रिलीज़ हो चुकी है|

लेकिन मेरा मानना है  जब फिल्मे दर्शको के बीच थियेटर में रिलीज़ होती है तो सही मायने में फिल्मे दर्शको,बॉक्स ऑफिस और क्रिटिक्स की कसौटी पे होती है तब उनका सही आकलन होता है की फिल्म हिट है या फ्लॉप ?

अगर ऐसे ही सभी बड़ी फिल्मे डिजिटल रिलीज़ हो जाएँगी तो सिंगल स्क्रीन सिनेमाहाल और मल्टीप्लेक्स का क्या होगा ये सवाल उठता है ?आप इस विषय पे क्या राय रखते है मुझे कमेंट बॉक्स में लिखे |

यह भी पढ़े :-पूर्वांचल में 80 के दशक में माफियाओं के बीच कैसे खून की नदिया बही इसको पढने के लिए यहाँ क्लीक करे