वन साइडेड इश्क की कहानी पे आधारित है चमन बहार फिल्म [Chaman Bahaar movie review]

Chaman Bahaar film review – OTT प्लेटफॉर्म आजकल छोटे शहरों के व्यूवर को ध्यान  में रख नया ट्रेंड सेट कर रहा है। तभी तो छोटे शहरों की कहानी को तरजीह दे रहा है। जितेन्द्र कुमार की  पंचायत वेब सीरीज  की सफलता के अब नेटफ्लिक्स पर उनकी नई फिल्म रिलीज हुई है 'चमन बहार' । क्या आपको चमन बहार फिल्म का  एक तरफ़ा इश्क देखना चाहिये की नहीं ? क्या ख़ास है इस जीतेन्द्र कुमार की नई  वेब रिलीज़ फिल्म में ? आइये जानते है?

वन साइडेड इश्क की कहानी पे आधारित है चमन बहार फिल्म [Chaman Bahaar movie review]

Chaman Bahaar Film Review Duration & Cast and Crew


Release Date-19-june-2020
OTT – Netfilx
Film Duration: 1hr 59 min
Genre- comedy drama
Cast (कास्ट): जितेंद्र कुमार, भुवन अरोड़ा, रितिका बदियानी, आलम खान, धीरेंद्र तिवारी
Producer (निर्माता) सिद्धार्थ आनन्द कुमार,विक्रम मेहरा
Director (निर्देशक): अपूर्वधर बडगैयां
Writer (लेखक): अपूर्वधर बडगैयां

Rating (रेटिंग): 2 स्टार (में से)



चमन बहार फिल्म रिव्यू


जिस तरह से डिजिटल प्लेटफॉर्म छोटे शहरों की कहानी को परदे पे ला रहा है उससे तो साफ़ जाहिर है की अब उसका फ़ोकस रुरलर इंडिया को OTT प्लेटफार्म से जोड़ना है | खैर समय की डिमांड भी यही कहती है | 

नेटफ्लिक्स पर 19 जून को रिलीज हुई चमन बहार फिल्म की कहानी छत्तीसगढ़ के छोटे से कस्बे लोरमी के लोकल मुद्दे के बीच पनपी बिल्लू (जितेंद्र कुमार) की एक तरफ़ा प्रेम कहानी पे आधारित है। लेकिन कहानी बेदम है जिसे एक्टर जीतेन्द्र कुमार ने अपनी अदाएगी से भरने की कोशिश तो की है लेकिन सफल नहीं हो पाते है। वो भी कहाँ तक करते जब कहानी पे काम है नहीं किया हो। 


बिल्लू पेशे से जंगल का चौकीदार है| लेकिन एक दिन जंगल में भालू का सामना करने के बाद उसने चौकीदार की नौकरी छोड़ दी | अब उसे इस छोटे से कस्बे लोरमी में अपनी पहचान बनानी है | लेकिन वो रिंकू ननोरिया (रितिका बदियानी)जैसी खुबसूरत लड़की के एक तरफ़ा इश्क़ में पड़ जाता है | 

जिसके पीछे उसका सब कुछ लुट जाता है | ऐसा कहानी में कुछ ख़ास नहीं है , लेकिन लेखक –निर्देशक अपूर्वधर बडगैयां ने साधारण सी प्रेम कहानी को सिप्मल तौर से लिखा और शूट किया है जिससे लोकल दर्शक फिल्म से कनेक्ट कर सके | इस चक्कर में कहनी स्लो हो गयी है जिसे २ घंटे तक झेलना भरी पड़ता है। 

वन साइडेड इश्क की कहानी पे आधारित है चमन बहार फिल्म [Chaman Bahaar movie review]

अपूर्वधर बडगैयांकी की  ये पहली फिल्म है जिसमे वो कोई जादू तो नहीं छोड़ते लेकिन जीतेन्द्र कुमार बिल्लू के रोल में अपनी छाप छोड़ते है |ऐसा लगता है की छोटे शहरो की कहानी के किरदार उनके लिए लिखे जाते है जिसे जीतू उसमे अपनी छाप छोड़ देते है | 


फिल्म में एक गाना है जिसे सोनू निगम ने गया है जो की कर्णप्रिय बना है स्क्रीन पे देख कर आपको अपने स्कूल के दिनों की याद ताज़ा हो जाएगी | रही बात फिल्म देखने की तो 2 घन्टे की स्वीट सी एक पान वाले बिल्लू की कहनी को आप एन्जॉय करेंगे बोर नहीं होगे | जितेन्द्र कुमार के इमोशनल और कॉमिक पंच आपको पसंद आएगा |


चमन बहार फिल्म की कहानी  (Chaman Bahaar movie story)



चमन बहार फिल्म की कहानी छत्तीसगढ़ के छोटे से कस्बे लोरमी में गढ़ी गयी है जहाँ बिल्लू (जितेंद्र कुमार) जंगल चौकीदार की नौकरी छोड़ने के बाद कस्बे में अपनी पहचान बनने के लिए वो शहर के बहार पान की दूकान खोलता है |जिसकी पान की दूकान का नाम है चमन बहार |

एक साधारण से चपरासी का बेटा बिल्लू (जितेंद्र कुमार) पान की दुकान तो खोल लेता है लेकिन शहर के बाहरी इलाके में होने के कारण वहां भीड़भाड़ नहीं होती।तो दिन भर मख्खी मारता रहता है |

वन साइडेड इश्क की कहानी पे आधारित है चमन बहार फिल्म [Chaman Bahaar movie review]

लेकिन एक दिन उसके चमन में बहार आ जाती है क्यूंकि दूकान के सामने स्थित मकान में जूनियर इंजीनियर अपने परिवार साथ रहने आते हैं। उनकी एक बेटी रिंकू ननोरिया (रितिका बदियानी) है जो बेहद ही खुबसूरत है | जिसे देख एक पल में बिल्लू का दिल उससे छीन जात है | वो एक तरफ़ा प्यार में पड़  जाता है ऐसा वो अकेल नहीं है, इलाके के सभी लड़के भी उसके आकर्षण से खिचे चले आते है |

अब इलाके के लड़कों का भी आकर्षण का केंद्र बिल्लू की दूकान बन जाती है जहाँ रोजाना रिंकू की एक झलक पाने के लिए इलाके के लड़कों से लेकर युवा राजनेता   और वन विभाग के अधिकारी का लड़का तक पान की दुकान पर आने लगते हैं।


बिल्लू मन ही मन रिंकू से प्यार करने लगता है। और दिनभर उसके सपनो में खोये रहता है वो सभी को इस रेस से पछाड़ने के लिए छले चलता है जिससे वो अपने दिल की बात रिंकू से कह सके| 

लिहाजा एक दिन हिम्मत करके आई लव यू का कार्ड उसके घर पे फेंक देता है लेकिन वो रिंकू के  पिता के हाथ लग जाता है। फिर क्या होता है यही कहानी का प्रमुख भाग है |क्या  बिल्लू का प्यार रिंकू को कबूल होगा ? क्या होगा जब आई लव यू का कार्ड रिंकू के पिता को मिल जाता है ? क्या रिंकू के चाहने वालो को पछाड़ कर बिल्लू अपना जगह उसके दिल में बना पायेगा ? इन्ही सवालो का जबाब आपको मिलेगा netflix की चमन बहार फिल्म में |


निर्देशन

अपूर्वधर बडगैयां की बतौर निर्देशक यह पहली फिल्म है इससे पहले वो  फिल्ममेकर प्रकाश झा को असिस्ट कर चुके है | अपूर्वधर बडगैयां चमन बहार की कहनी को लिखा भी है उन्होंने सोनम गुप्ता बेवफ़ा वाले प्रकरण को एक तरफ़ा इश्क के रूप में गढ़ कर पेश किया है | आपको बतादे वर्ष 2016 में सोनम गुप्ता बेवफा है प्रकरण सुर्खियों में आया था। किसी सिरफिरे आशिक ने नोट पर लिखा था कि सोनम गुप्ता बेवफा है|

वन साइडेड इश्क की कहानी पे आधारित है चमन बहार फिल्म [Chaman Bahaar movie review]

निर्देशक अपूर्वधर ने शहरी लड़की के प्रति कस्बों में रहने वाले लड़कों के आकर्षण को सही रूप से दिखने में कामयाब होते है | लेकिन कहानी एकतरफा प्रेम की तरह भी एक तरफ़ा ही दिखेगी , क्यूंकि लड़की और उसके परिवार की मनोदशा का चित्रण बहुत कम किया गया है | 

लड़के खुलेआम लड़की का पीछा कर रहे है| घर के सामने हर समय 50-60 लडको का जमावड़ा बना हुआ है लेकिन लड़की का परिवार का कोई रिएक्शन नहीं है | इस पार्ट पे थोड़ा काम हो सकता था | 


पता नहीं फिल्म की हेरोइन रिंकू ननोरिया (रितिका बदियानी) को एक भी संवाद नहीं दिए है जो उनके प्रति अक्कर्षण को कम करते है | थोड़ा कहानी पे और भी बेहतर तरीके से काम हो सकता था। निर्देशक अपूर्वधर ने लोकल दर्शको को ध्यान में रखे चमन बहार फिल्म की रचना की है जो की ठीक ठाक ही है | वन टाइम  वाच कह सकते है |

अभिनय


 चमन बहार के कलाकारों की बात करें तो हाल में फिल्म 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान' और 'पंचायत' वेब सीरीज में नजर आए जितेंद्र कुमार ने इस फिल्म में काम पढ़े लिखे और साधारण पान वाले लड़के को परदे पर सच्चाई और सही इमोशन के साथ व्यक्त किया है। सहयोगी कलाकारों की बात करें तो आग में घी डालने का काम डालने वाले सोमू (भुवन अरोड़ा) और छोटू (धीरेंद्र तिवारी) की जोड़ी की केमिस्ट्री बढिय़ा है। फिल्म का गीत संगीत साधारण है।





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां