Search Bar

लीजेंडरी कॉमेडियन एक्टर जगदीप का निधन| फिल्म शोले में सुरमा भोपाली का रोल फैन्स को हमेशा याद रहेगा |


साल 2020 बॉलीवुड जगत के लिए अच्छी ख़बर लेकर नहीं आया है | इस साल फिल्म जगत कोरोना की महामारी से जूझ रहा, तो वही बॉलीवुड के लीजेंडरी एक्टर्स का जाने का सिलसिला भी बना हुआ है| अभी कुछ दिन पहले वेटरन कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हुआ था |

लीजेंडरी कॉमेडियन एक्टर जगदीप का निधन| फिल्म शोले में सुरमा भोपाली का रोल फैन्स को हमेशा याद रहेगा |


अभी बॉलीवुड सुशांत सिंह राजपूत और सरोज खान के सदमे से भी नहीं उबरा था की बुधवार की रात (8 जुलाई ) को लीजेंडरी कॉमेडियन एक्टर जगदीप के निधन की ख़बर आ गयी। जगदीप जाफरी 81 वर्ष के थे।

बॉलीवुड में जगदीप के नाम से महशूर थे लेकिन ये उनका असली नाम नहीं था,उनका असली नाम सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी था। सूत्रों की माने तो एक्टर जगदीप ढलती उम्र के कारण कई बीमारियों से ग्रस्त थे | जिनका लम्बे समय से इलाज़ भी चल रहा था|

एक्टर जगदीप के दो पुत्र है, जावेद और नावेद जाफरी। जिनमे से जावेद जाफरी भी बॉलीवुड में एक्टर है |

बायोग्राफी ऑफ जगदीप


जगदीप का जन्म 29 मार्च, 1939 को मध्य प्रदेश के दतिया में हुआ था| उनके पिता
दतिया में एक वकील हुआ करते थे। लेकिन बचपन से फ़िल्मी कीड़ा होने की वजह से जगदीप का फिल्मी करियर बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट शुरू हो गया था उन्होंने साल 1951 में 'मास्टर मुन्ना' के रूप में बी आर चोपड़ा की फिल्म 'अफसाना' से अपने करियर का शुरू किया था । फिर क्या था जगदीप इसके बाद चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में ही फिल्म 'लैला मजनूं' में नज़र आये थे ।

फिल्म 'हम पंछी एक डाल के' में उनके काम को दर्शको ने खूब पसंद किया था |इसी रोल के लिए उस दौर के भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भी जगदीप की तारीफ की थी|

लेकिन उन्हें कॉमिक अंदाज़ मिला बिमल रॉय की फिल्म 'दो बीघा जमीन' से| जिसके बाद उन्होंने कॉमेडियन एक्टर के रूप में करीब 400 से ज्यादा फिल्मों में काम किया। जगदीप की आखरी फिल्म 2012 में आई थी जिसका नाम था 'गली गली चोर' इस फिल्म में पुलिस कांस्टेबल की भूमिका में नजर आए थे। 

इसके अलावा रामसे ब्रदर की फिल्म 'पुराना मंदिर' में उन्होंने मच्छर के किरदार और फिल्म 'अंदाज अपना अपना' में सलमान खान के पिता के रोल में भी उन्होंने दर्शकों का जबरदस्त मनोरंजन किया था|

फिल्म शोले में सुरमा भोपाली का रोल फैन्स को हमेशा याद रहेगा |


साल 1975, में जब रमेश सिप्पी के निर्देशन आई फिल्म शोले आई तो उस फिल्म से जगदीप द्वारा निभाया गया सूरमा भोपाली के किरदार ने उन्हें बॉलीवुड में एक नयी पहचान दिलाई । सुरमा भोपाली का सवांद “अरे में ऐसे नहीं कह रिया था’ लोगो को खूब पसंद आया| इस किरदार के नाम से बाद में साल 1988 में एक फिल्म भी बनी, जिसका नाम “सुरमा भोपाली” रखा गया जिसमे मुख्य भूमिका को  जगदीप ने ही निभाई थी ।

ऐसा नहीं की जगदीप सिर्फ शोले फिल्म के लिए ही जाना जायेगा,इससे पहले भी वो ब्रह्मचारी, नागिन और अंदाज अपना-अपना जैसी हिट फिल्मों में अपनी कॉमेडी से सभी को खूब हसाया था । वो बात अलग है की उनके चहाने वाले उन्हें सूरमा भोपाली के रूप में याद ज़रूर करेंगे| जगदीप ने बॉलीवुड में कॉमेडी में अपना जलवा तब मनवाया जब पहले से ही उस दौर में जॉनी वॉकर, केश्टो मुखर्जी और महमूद का बोल बाला था उस कठिन दौर में उन्होंने धीरे धीरे दर्शको को दिल में अपनी जगह बना ली थी ।



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां