Search Bar

Omerta film review: पाकिस्तान में चल रहे आतंकवादी कारखाने के राज़ फाश करती है।

राजकुमार राव की ओमेर्टा फिल्म,एक ब्रिटिश-पाकिस्तानी खूंखार अतांकी उमर सईद शेख के आतंकी बनने का कच्चा चिट्ठा खोलती है।और किस तरह पाकिस्तान की सरकार उसकी मदद करती हैआइये जानते और क्या खास है इस फिल्म में ? और क्या ये फिल्म आपको देखनी चाहिए की नहीं ?


Omerta film review: पाकिस्तान में चल रहे आतंकवादी कारखाने के राज़ फाश करती है।Omerta Full Movie Download Available on Tamilrockers and Other Torrent Sites



ओमेर्टा मूवी कास्ट एंड क्रू (OMERTA MOVIE CAST AND CREW)
Cast:राजकुमार राव, राजेश तैलंग, ब्लैक ऐलनकेवल अरोड़ा
Producer (निर्माता): शैलेष आर.सिंह/नाहिद खान
Director (निर्देशक): हंसल मेहता
रिलीज़ डेट : 25 जुलाई 2020
रिलीज़ प्लेटफार्म : ZEE5

ओमेर्टा मूवी समीक्षा


हंसल मेहता ने सिमरन जैसी फ्लॉप फिल्म देने के बाद राजकुमार राव के साथ ओमेर्टा लेकर फिर से बॉक्स ऑफिस के मैदान में उतारे है | 2018 में ये फिल्म मुंबई फिल्म फेस्टिवल (नेशनल) से लेकर बुशान फिल्म फेस्टिवल(इंटरनेशनल) तक शिरकत कर चुकी है | जहाँ ओमेर्टा फिल्म को क्रिटिक्स ने काफी सरहा भी है | 

हंसल मेहता राजनेतिक और सामाजिक मुद्दों पर अच्छे से फोकस करते है और उन्हे इस विधा में महारत भी हासिल है | जैसे कॉलेज राजनीती को लेकर इरफ़ान और जिमी शेरगिल के साथ हासिल बनायीं थी |जो काफी सफल रही थी | लेकिन कंगना को लेकर बनायीं सिमरन फिल्म बॉक्स ऑफिस पे कोई कमाल करने में नाकामयाब रही थी |

खैर सीधे मुद्दे पे आते है क्या ओमेर्टा फिल्म देखने लायक है की नहीं तो एक लाइन में कहूँगा की अगर आपको सिरियस मुद्दों पर फिल्म देखना पसंद है तो आप इस फिल्म को देखे वर्ना स्किप कर सकते है |

राजकुमार राव इससे पहले हंसल मेहता के साथ शाहिद और अलीगढ़ में नज़र आ चुके है | दोनों की केमिस्ट्री सॉलिड है राजकुमार राव को पता है की निर्देशक हंसल मेहता को क्या चाहिए | इसलिए तो हंसल राजकुमार राव पर ऐसे सब्जेक्ट के रिस्क पर खेल जाते है |

हंसल ने ओमेर्टा की स्क्रिप्ट और निर्देशन दोनों की लगाम कस कर रखी है जिस कारण फिल्म अपनी स्टोरीलाइन से भटकती नहीं है | लेकिन फिल्म काफी स्लो है| बाकि सभी डिपार्टमेंट में अपनासौ प्रतिशत देते है | चाहे एक्टिंग हो या म्यूजिक सब फिल्म के अकार्डिंग सही है | हाँ फिल्म देखते हुए आपको फिल्म पुरानी फिल्म की माफिक लगेगी | क्यूंकि ये फिल्म 2017 में ही बन गयी थी और अब जाकर ये फिल्म इण्डिया में रिलीज़ हो पाई है |

ओमेर्टा मूवी की कहानी


ओमेर्टा का अर्थ होता है माफिया की चुप्पी। इस फिल्म के ज़रिये हंसल मेहता ने पाकिस्तान में चल रहे आतंकवादी कारखाने के राज़ फाश खोल कर रख दिए है | किस तरह वहां एक ब्रिटिश-पाक  नागरिक उमर सईद शेख़(राजकुमार राव ), मुस्लिमो के खिलाफ बोसनिय में हो रहे जुल्मो को देख उनको सबक सिखने के वास्ते पाकिस्तान के आतंकी ट्रेनिंग कैंप का हिस्सा बन जाता है | और फिर जो वो पूरी दुनिया में कहर बरपता है उसे पूरी अमरीका ,इंडिया को झेलना पड़ता है |

हंसल मेहता ने ओमेर्टा के जरिये ये दिखने की कोशिश की है की जरुरी नहीं है की गरीबी,अशिक्षा और भूख ही किसी इंसान को आतंकवादी बनने के लिए मजबूर करती है | इसमें ब्रिटेन का एक पढ़ा लिखा युवक उमर सईद शेख जिसके आगे पूरी ज़िन्दगी पड़ी लेकिन बोसनिया में मुसलमानों के खिलाफ हो रहे जुल्मो ने उसके मन में घ्रणा ने वो जगह बना ली जिसके चलते वो अपनी पढाई छोड़कर आतंक की राह पे निकल पड़ता है | जिसे बनाने में पाकिस्तान की सरकार उसे मदद करती है |

पाकिस्तान कैसे अपनी धरती पर आतंकियों की पौध तैयार करता है, उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई को कैसे सपोर्ट करती है | और भारत के विरुद्ध हमले तथा अन्य अपराध करने को उकसाता है।

पाकिस्तानी-ब्रिटिश मूल के आतंकी उमर सईद शेख की कहानी पे आधारित है ओमेर्टा फिल्म |


ये वो आतंकवादी है जिसे पाकिस्तान सरकार हमेशा से बचाती रही है |1973 में एक ब्रिटिश –पाक संम्पन पारिवर में जन्मे उमर सईद सेख के खिलाफ कभी भी किसी जांच एजेंसियों को कोई सुबूत नहीं मिले । हंसल मेहता ने सुबूतो के साथ ओमेर्टा फिल्म  को अपने ही तरके से पेश किया है |

पाकिस्तानी के आतंकी केम्प से ट्रेनिग लेने के बाद 1994 में दिल्ली में कुछ विदेशी नागरिको को अगवा करने के जुर्म  में दिल्ली पुलिस पकड़ लेती है |इसके बाद 5 साल तक उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की जेल में बंद रहने के बाद | 1999 में कंधार विमान हाईजैकिंग कांड में आतंकियों ने भारत सरकार पर दबाव बना कर मसूद अजहर और मुश्ताक अहमद जरगर और उमर सईद शेख को रिहा करा लिया था

इसके बाद इसी उमर सईद शेख ने 9/11 की घटना को अंजाम दिया | उसके बाद अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या की | यहाँ तक की जब मुंबई आतंकी हमलों के दौरान पकिस्तान जेल में बंद होने के बावजूद वो दोनों देशों में भड़काने वाले फर्जी कॉल करने में लिप्त रहा। फिलहाल उमर पाकिस्तान की एक जेल में बंद है। पर्ल की हत्या के जुर्म में इसे पाकिस्तानी अदालत ने मौत की सजा सुनाई लेकिन फिर उसे उम्र कैद में बदल दिया।

मेरे विचार

सीरियस मुददों पर अगर आप फिल्म देखना पसंद है तो आप ये फिल्म देख सकते है|
फिल्म की स्पीड थोड़ी स्लो है लेकिन कसी हुई कहानी और राजकुमार राव का अभिनय आपको बांधे रखेगा | ओमेर्टा फिल्म के जायदातर संवाद इंग्लिश में हैं। और कही कही हंसल मेहता ने फिल्म को रियल टच के लिए ओरिजिनल फुटेज इस फिल्म को डॉक्युमेंट्री जैसा आभास करती है | इस फिल्म में हंसल ने लिखते और फिलमाते हुए फैक्ट्स को सही से पिरोया है | जिस कारण से फिल्म रियल लगती है |
साथ ही राजकुमार राव इस फिल्म में एक और मजबूत कड़ी है जिन्होंने अपने शानदार अभिनय से अपने किरदार में जान डाल दी है |



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां