सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश,अब CBI करेगी सुशांत केस की जांच,मुंबई पुलिस को 3 दिन में देनी होगी पूरी फ़ाइल

आज सुप्रीम कोर्ट में रिया चक्क्वर्ती (Reha Chakraborty)केस की सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता(Solicitor General Tushar Mehta) ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि सीबीआई जांच की बिहार सरकार की सिफारिश को केंद्र सरकार ने स्वीकार कर लिया है| इससे यहाँ सुशांत सिंह राजपूत केस की सीबीआई(CBI) की जाँच होना तय है | आज सुशांत के लाखो करोड़ो फैन्स की मांग तो कबूल हुई ,साथ ही सुशांत के पिता और उनके परिवार के लिए राहत देने वाली ख़बर है | अब सुशांत को न्याय मिलकर रहेगा |

सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश,अब CBI करेगी सुशांत केस की जांच,मुंबई पुलिस को 3 दिन में देनी होगी पूरी फ़ाइल
सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश,अब CBI करेगी सुशांत केस की जांच,मुंबई पुलिस को 3 दिन में देनी होगी पूरी फ़ाइल 

कल बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने केंन्द्र को सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच CBI से कराने की शिफारिश की थी जिसे केंद्र सरकार ने स्वीकार कर लिया था | और आज सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को तीन दिन के भीतर जवाब देने को कहा गया है| एक सप्ताह बाद फिर से इस केस की सुनवाई होगी|


आपको बता दे इससे पहले महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस सुशांत के केस में पटना पुलिस का किसी भी तरह से सहयोग नहीं कर रही थी | यहाँ तक की पटना से सुशांत केस की जाँच करने पहुचे आईपीएस विनय तिवारी को जबरन क्वारंटीन कर लिया था | जिसपर आज सुप्रीम कोर्ट ने भी मुंबई सरकार को कड़ी फटकार लगायी है | और इस विषय पर अपनी रिपोर्ट सब्मिट करने के आदेश भी दे दिए है |

क्या हुआ आज सुप्रीम कोर्ट में

आज सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस ऋषिकेश रॉय ने कहा की जब भी हाईप्रोफाइल केस होता है खासकर अगर वो शख्स फ़िल्मी दुनिया से जुड़ा हो तो सभी का नजरिया अलग होता है सोचने का| 

सुशांत एक टैलेंटेड कलाकार थे और उनकी मौत काफी अलग परिस्थितियों में हुई| इसमें क्या कोई क्रिमिनलिटी एंगल है ये तो जांच का विषय है | सब इसे हाई प्रोफाइल केस के तौर पर देख रहे है लेकिन हम कानून के हिसाब से ही चलेंगे| आज सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को बिहार के IPS अफ़सर विनय तिवारी को बीएमसी द्वारा जबरन क्वारंटीन' करने के लिए महाराष्ट्र सरकार के कदम को ग़लत बताया |   

वही महाराष्ट्र सरकार ने पक्ष रखते हुए सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस केस में बिहार में  एफआईआर दर्ज करना और उसकी जांच करना बिहार पुलिस के क्षेत्राधिकार में नहीं आता है| इसे जबरन राजनीतिक केस बना दिया गया है वहीं, सुशांत के पिता ने महाराष्ट्र पुलिस पर सबूतों को मिटाने की बात कही | सुप्रीम कोर्ट की ऋषिकेश रॉय की पीठ ने केस को ट्रांसफर किए जाने की मांग पर सभी पक्षों को तीन दिन के भीतर जवाब देने को कहा गया है| एक सप्ताह बाद फिर से इस केस की सुनवाई होगी| 

सुशांत सिंह राजपूत केस को CBI में देने की बिहार सरकार कि कवायत? 


मुंबई पुलिस और पटना पुलिस के बीच सुशांत केस को लेकर लगातार आमने सामने थे | पटना पुलिस को मुंबई पुलिस किसी भी तरहा से सहयोग  नहीं मिल रहा था तब कही जाकर 4 अगस्त 2020 को महाराष्ट्र सरकार की तरफ से भारी विरोध के बीच बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर पटना में दर्ज मामले की सीबीआई जांच के लिए बिहार के राज्यपाल ने राज्य सरकार की तरफ से की गई सिफारिशों पर अपनी सहमति दे दी। 

इससे पहले, सुशांत के पिता के.के. राजपूत की तरफ से सीबीआई जांच की मांग पर नीतीश कुमार ने सुशांत को खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में उनकी पूर्व लिव-इन-पार्टनर और एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के खिलाफ दर्ज मामले पर यह सिफारिश की थी।

कल यानि 4 अगस्त को सीबीआई जांच की सिफारिश का ऐलान करते हुए नीतीश कुमार ने कहा था कि सरकार आज ही सिफारिश भेजने को लेकर सभी औपचारिकताएं पूरी कर लेगी। महाराष्ट्र में हुई घटना को लेकर बिहार सरकार और पुलिस को जांच के अधिकार पर उठ रहे सवालों के बीच बिहार के राज्यपाल ने राज्य सरकार की इस सिफारिश को मंजूरी दी है।

इससे पहले भी मुंबई पुलिस के सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो वायरल हुए थे जिसमें मुम्बई पुलिस बिहार पुलिस के साथ अच्छा सुलूक करती हुई नज़र नहीं आ रही थी | जिसके बाद भी बिहार पुलिस के IPS विनय तिवारी को ज़बरदस्ती क्वारंटीन कर दिया था |जिसके बाद कई लोगो ने मुबई पुलिस की जाँच को निष्पक्ष तरीके से ना करने के आरोप लगाये है |


आपको बता दे 14 जून को सुशांत की सुसाइड के बाद से ही उनके फैन्स और घर वालो का कहना था की सुशांत सिंह राजपूत ऐसा नहीं कर सकते | और इस केस में बॉलीवुड जगत के कई नामी गिरामी नाम भी आ रहे थे | तभी से सुशांत ने आत्महत्या की है या उनकी हत्या हुई है इसको लेकर चर्चा गरम हो गयी थी | जिसके बाद सभी लोगो ने सुशांत केस की जांच  सीबीआई से करने की मांग की थी लेकिन लगातार मुम्बई सरकार इस डिमांड को टालती रही |

इसके पीछे उनकी क्या मंशा थी ये कोई नहीं जानता लेकिन इसके बाद 25 जुलाई को सुशांत के पिता के के सिंह की FIR पर जब  रिया चक्रवर्ती को अभयुकत बनाया गया | जिसके बाद पटना पुलिस मुंबई पहुचकर इस केस की जांच में जुटी तो उनको मुंबई पुलिस और सरकार से कोई सपोर्ट नहीं मिला | जिसके बाद नितीश सरकार को इस केस को सीबीआई को देने की शिफारिश करनी पड़ी |