पागल है सॉंग :फेक फॉलोअर्स के चक्कर में फंसे रैपर बादशाह


म्यूजिक इंडस्ट्री (Music industry) का बड़ा नाम भी ऐसा कर सकता है सुनकर पढ़कर रैपर बादशाह (Rapper Badshah) के चहाने वालो को विश्वास नहीं होगा लेकिन ये सच है जिसे खुद रैपर बादशाह ने कबूल कर लिया है| आइये जानते है पूरा मामला क्या है ?

पागल है सॉंग :फेक फॉलोअर्स के चक्कर में फंसे रैपर बादशाह



पिछले कुछ दिनों में जहाँ मुंबई पुलिस सुशांत की सुसाइड की गुथी सुलझाने में लगी है वही उनके पास नया मामला आया है फेक फॉलोअर्स का | हम विस्तार से बताते है की क्या होता है फेक फॉलोअर्स लेकिन पहले ये पूरा मामला जानते है| पिछले दिनों रैपर बादशाह पर सोशल मीडिया पर फेक फॉलोअर्स खरीदने का आरोप लगा है जिसके चलते मुंबई पुलिस ने रैपर बादशाह को समन भेजकर तलब किया था | 

जहाँ 7 अगस्त को मीडिया ईडी के दफतर में सुशांत के केस में व्यस्त थी तो ये न्यूज़ वायरल नहीं हो पाई | क्यूंकि इसी दिन रैपर बादशाह भी मुंबई पुलिस के 10 घंटे लम्बे इंट्रोगेशन से गुजरे थे जहाँ पहले बादशाह ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज कर दिया था | लेकिन मुंबई पुलिस ने कहा है की रैपर बादशाह ने फेक फॉलोअर्स को खरीदने की बात को कबूल कर लिया है |





मुंबई पुलिस के अनुसार ‘पागल है’ सॉंग के व्यूज़ बढाने के लिए बादशाह ने एक कंपनी को 72 लाख रूपए दिए थे जिससे बदले में उन्हें 7.2 करोड़ फेक व्यूज़ मिले थे| क्यूंकि वो इस गाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना चाहते थे | वैसे पागल है गाने ने 24 घन्टे में 75 मिलियन व्यूज़ मिल गए थे |

मुंबई क्राइम ब्रांच के अधिकारियों का कहना है 10 घंटे चली पूछताछ में बादशाह उर्फ आदित्य सिंह ने स्वीकार किया है कि उन्होंने सोशल मीडिया पर व्यूज़ बढ़ाने के लिए 72 लाख रुपये कंपनी को दिए थे| इसके बाद बादशाह के और गानों की भी जाँच मुबई पुलिस कर रही है | लेकिन इन सभी आरोपों को बादशाह बेबुनियाद बता रहे है |


आखिर कैसे आया सामने ये मामला ?


बॉलीवुड सिंगर भूमि त्रिवेदी ने अपने फेक अकाउंट के बारे में पहले मुंबई पुलिस को जानकारी दी थी जिसके बाद मुंबई पुलिस इसकी जाँच में जुटी तो फेक फॉलोअर्स की बड़े रेकेट का भंडा फोड़ हुआ | जिसमे मुंबई पुलिस ने अभिषेक दावडे को गिरफ्तार किया था | जिससे पूछताछ में पता चला की बॉलीवुड के अलावा स्पोर्ट्स के कई नामचीन लोग उसकी हेल्प ले चुके है अपने फॉलोअर्स बढ़ने के लिए | इसके चलते मुम्बई पुलिस अभी तक कई सिलेबस से पूछताछ कर चुकी है | 


कैसे काम करता है फेक फॉलोअर्स का रेकेट


फेक फॉलोअर्स का रेकेट सोशल मीडिया पर फेक अकाउंट के जरिये आपके यू ट्यूब वीडियोस के लाइक्स और व्यूज बढ़ाते है जिसके एवज़ में वो पैसे चार्ज करते है | ये पूरा सिस्टम बॉट्स (bots) या फर्जी प्रोफाइल पर बेस्ड होता है रियल लगने के लिए इनके प्रोफाइल्स के फॉलोअर्स भी होते है | जिनकी संख्या लाखो से करोडो तक होती है जिसके दम पर ये फर्जी कम्पनी आपसे पैसे ऐंठती है | ऐसा बादशाह के केस में हुआ था |