रिया की हाई कोर्ट से भी जमानत होना मुश्किल?भाई शोविक के बयान ने बिगड़ा सारा खेल

सेशन कोर्ट से रिया चक्रवर्ती की जमानत खारिज होने के बाद,आज उनके वकील सतिशमाने शिंदे हाईकोर्ट का रुख कर सकते है| लेकिन हाईकोर्ट से भी रिया को जमानत मिलना मुश्किल होगा?


रिया की हाई कोर्ट से भी जमानत होना मुश्किल?भाई शोविक के बयान ने बिगड़ा सारा खेल


मुंबई सेशन कोर्ट से रिया चक्रवर्ती की जमानत खारिज होने के बाद,आज उनके वकील सतिशमाने शिंदे हाईकोर्ट का रुख कर सकते है| लेकिन हाईकोर्ट से भी रिया को जमानत मिले ये कहना अभी जल्दी होगा| लेकिन रिया की रिहा होने की राह मे भाई शोविक का बयान ही सबसे बाद रोड़ा बना हुआ है यही कारण है की अभी रिया को हाईकोर्ट से भी जमानत ना मिले?


रिया की रिहा होने की राह मे भाई शोविक ही बना रोड़ा

ड्रग्स कनेक्शन (Drugs Allegations) मे रिया की जमानत पर भाई शोविक के बयान रोड़ा अटका सकते है? नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के सामने शोविक के ये वही बयान है जिसमे उसने कबूल किया था की रिया ही सुशांत के लिए ड्रग्स मंगाती थी| जोकि ड्रग कार्टेल के ऐक्टिव मेम्बर होने का सबूत पेश करता है| 

यही वजह है की सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Death Probe) में ड्रग्स कनेक्शन मे शोविक के बयानों के कारण ही NCB ने रिया को गिरफ्तार किया था | सेशन कोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के पीछे भी शोविक के बयान ही सबसे बड़ी वजह बने |

सेशन कोर्ट ने माना की रिया समेत सभी 6 आरोपी ड्रग्स के धंधे मे ऐक्टिव मेम्बर है अगर उन्हे जमानत मिल जाती है,तो वो सुबूतों और केस से जुड़े अन्य लोगों को आगाह कर सकते है | चूंकि अभी भी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की जांच चल रही है | इसलिए रिया चक्रबर्ती की जमानत याचिका (Rhea Chakraborty's bail petition) को मुंबई के सत्र अदालत ने खारिज कर दिया|

हालांकि की कोर्ट की डिटेल आर्डर की कॉपी रिया के वकील सतीश मानशिंदे को मंगलवार को मिली है अब वो आगे हाई कोर्ट का रुख कर सकते है| 

क्या कहा सत्र अदालत ने अपने आदेश मे?

11 सितंबर को सुशांत सिंह राजपूत केस के मामले में ड्रग्स कनेक्शन की जांच (Drugs Allegations probe) के दौरान गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के भाई शोविक(Showik Chakraborty) की जमानत याचिका खारिज करते हुए कोर्ट ने आदेश मे कहा रिया और सुशांत लिव इन रिलेशनशिप में रहते थे और आरोपी शोविक, रिया का भाई है| जिसने कबूलिया बयान मे कहाँ की वो रिया के कहने पर सुशांत सिंह के लिए ड्रग्स मंगवाता था|

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने जो साक्ष्य पेश किए उससे ये साफ हो जाता है की आरोपी शोविक ड्रग कार्टेल मे अहम रोल है | चुकी शोवीक ने एनसीबी की पूछताछ के दौरान कई महत्वपूर्ण नामों को उजागर किया है | जिसकी जांच अभी भी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो कर राह है | 

जिसके चलते एनसीबी ने कई गिरफ्तारिया भी की है और अभी जांच चल रही है,ऐसे वक्त मे आरोपी की जमानत मिल जाएगी तो वो जिन लोगों के संपर्क में था वह उनको जांच के बारे में जानकारी दे सकता है | ऐसे मे सबूतों को नष्ट किया जा सकता है| इससे एनसीबी की जांच प्रभावित हो सकती है| लिहाजा आरोपी शोविक चक्रवर्ती(Showik Chakraborty)को जमानत नहीं दी जा सकती|

रिया की हाई कोर्ट से भी जमानत होना मुश्किल?भाई शोविक के बयान ने बिगड़ा सारा खेल
 

आगे कोर्ट ने एनसीबी की दलीलों का हवाला देते हुए कहा है की इन सब की जानकारी रिया चक्रवर्ती को भी थी की उनका भाई किन- किन लोगों के संपर्क मे था| चूंकि रिया चक्रवर्ती की जानकारी में ही अक्सर ड्रग आता था उसे पता था की कौन सा ड्रग मंगवाना है और कितना ड्रग मंगवाना है ये सब रिया चक्रवर्ती ही तय किया करती थी और उसके पैसो का इंतजाम रिया ही करती थी |

जिसका खुलासा इस केस मे गिरफतार आरोपी सैमुएल मिरांडा (Samuel Miranda)और दीपेश सावंत (Deepesh Sawant) ने भी कबूला है| उनके अनुसार वो लोग भी रिया के कहने पर ही ड्रग्स लाया करते थे जिसके लिए रिया ही पैसे दिया करती थी |

इसके अलावा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने आरोपियों से जब्त डिजिटल साक्ष्य जैसे मोबाइल से व्हाट्सएप चैट, गूगल पे, लैपटॉप और हार्ड डिस्क के रिकॉर्ड को खंगालने पर ये साफ हो जाता है की रिया ही ड्रग्स के लिए लगातार पैसे दे रही थी |

आगे आरोपियों की जमानत याचिका(Bail Petition) का विरोध करते हुए जांच एजेंसी NCB ने कोर्ट को बताया कि सभी आरोपियों को आमने सामने बैठाकर पूछताछ भी कराई गई है| जिसके बाद सभी ने इन सभी के ड्रग कार्टेल की पुष्टि हुई है |

खासकर रिया और शोविक से को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ हुई तब रिया चक्रवर्ती ने भी इन बातों को स्वीकार किया है और यह भी माना है कि वो सैमुअल मिरांडा(Samuel Miranda) और दीपेश सावंत(Deepesh Sawant) के जरिए ड्रग मंगवाती थी और उसका पैसा भी देती थी|

इसी आधार पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने कोर्ट में यह साबित करने की कोशिश की कि ये सभी लोग एक ड्रग के ऐक्टिव मेम्बर है| अगर इन सभी आरोपियों की जमानत होती है तो उनकी जांच प्रभावित हो सकती है|जिसको कोर्ट ने माना और सभी आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी |


नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने रिया को एनडीपीएस अधिनियम किन धाराओ मे गिरफ्तार किया था?


आपको बात दे की नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने रिया से तीन दिन की पूछताछ के बाद एनसीबी ने उन्हे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था | रिया चक्रवर्ती पर एनडीपीएस अधिनियम की धारा 8 (C), 20 (B)(2 ), 22, 27A, 28 और 29 के तहत केस दर्ज किया गया था| इन सभी धाराओ मे का हवाला देते हुए एनसीबी ने 6 पेज की रिमांड आवेदन मे रिया को ड्रग सप्लाई से जुड़े ड्रग सिंडिकेट का एक सक्रिय सदस्य (Active Member) बताया, जो सुशांत सिंह राजपूत के साथ ड्रग्स खरीदने के लिए पैसे का इंतजाम करती थी।

यही कारण है की उनकी जमानत पहले मजिस्ट्रेट कोर्ट और फिर सेशन कोर्ट से खारिज कर दी गई थी| रिया और शोविक के वकील सतीश माने शिंदे ने कोर्ट मे दलील दी थी की उनके मौवाकिल पर दवाब मे बयान दर्ज कराए है जिसे कोर्ट ने माना नहीं| अब देखना होगा की रिया के वकील सतीश माने शिंदे हाईकोर्ट मे क्या दलील पेश करते है? और क्या शोविक के कबूलिया बयान से रिया बच पाएगी?