शादी के कनफ्यूजन की घिसी पिटी कहानी के साथ बेमेल है यामी-विक्रांत मैसी की जोड़ी

Ginny Weds Sunny Review: शादी के कनफ्यूजन की घिसी पिटी कहानी के साथ बेमेल है यामी गौतम और विक्रांत मैसी की जोड़ी| 


शादी के कनफ्यूजन की घिसी पिटी कहानी के साथ बेमेल है यामी गौतम और विक्रांत मैसी की जोड़ी


गिन्नी वेड्स सनी समीक्षा

शादी पर बनी बॉलीवुड की फिर से वो ही घिसी पिटी कहानी,पहले कनफ्यूजन फिर प्यार और अंत मे शादी| जब फिल्म का टाइटल Ginny Weds Sunny हो तो ये तो पक्का हो जाता है चाहे कुछ भी हो जाए गिन्नी की शादी सनी से हो कर रहेगी| इस तरह की कहानी को बॉलीवुड मे कई बार देख चुके है बस हर बार ट्विस्ट मे फेरबदल करके दर्शकों के सामने परोस जाता है|

दर्शक एक बार को अभिनय के दमपर फिल्म को भले ही देखने की हिम्मत करे लेकिन Ginny Weds Sunny फिल्म यहाँ पर भी फेल हो जाती है खासकर यामी-विक्रांत की बेमेल जोड़ी की केमेस्ट्री सेट नहीं हो पाई| जहां यामी गौतम (Yami Gautam) गिन्नी के किरदार मे खूबसूरत लगी है तो वही विक्रांत मैसी (Vikrant Massey) पूर्वी दिल्ली के पंजाबी लौंडे सनी के किरदार मे कुछ नया नहीं दे पाए है |

फिल्म मे आपको एक मजबूत विलेन की भी कमी खलेगी जिसकी पूर्ति फिल्म की कहानी करती हुई नजर आती है | आपको गिन्नी वेड्स सनी देख कर तनु वेड्स मनु की याद ताज़ा हो जाएगी | जिसमे कहानी के साथ कंगना और आर माधवन की जबरदस्त परफ़ोर्मेंस आपको अभी तक नहीं भूली होगी | खैर अगर आपके पास 2 घंटा फुरसत का है तो बिना दिमाग पर जोर दिए Ginny Weds Sunny की शादी का आनंद ले सकते है| देखने के लिए नेटफलिक्स पर जाना होगा |


गिन्नी वेड्स सनी कहानी


फिल्म के नाम से ही कहानी का पता लग जाता है की चाहे दुनिया मे तूफान आए या प्रलय गिन्नी की शादी तो सनी से ही होगी| अब सवाल खड़ा होता है की आपको इसके बाद भी फिल्म देखनी है या नहीं ? तो आपको बता दे की फिल्म मे ऐसा कुछ नहीं है जिसे आपने पहले देखा ना हो हाँ अगर यामी गौतम की खूबसूरत अदाओ के फैंस है तो आप ये फिल्म देख सकते है |

वैसे कहानी की बात करे तो ये आज की पीड़ी की रिलेशनशिप मे कनफ्यूजन को दर्शाती है जहां वो करियर मे तो तरक्की कर लेते है लेकिन अपने हम सफर के फैसले मे कनफ्यूज रहते है | चलिये कनफ्यूजन को और रायेता न फैलते हुए सीधे कहानी पर आते है |

कहानी शुरू होती है सनी (विक्रांत मैसी ) से जिसके हाथों मे खाना बनाने का जादू तो है लेकिन लव लाइन मे कुछ लोचा है | वो जिस लड़की से शादी करना चाहता है वो उसे 1 साल तक रिलेशनशिप मे बने रहने को कहती है| लेकिन सनी को मंजूर नहीं होता और ब्रेकअप हो जाता है | सनी के पिता पूर्वी दिल्ली मे हार्डवेयर की दुकान चलते है जहां उसका मन नहीं लगता वो तो बस रेस्तरां खोलना चाहता है| जिस पर उसके पिता की भी शर्त है की वो पहले शादी करले फिर वो उसकी मदद करेंगे |

उधर गिन्नी की लव लाइफ मे भसड़ चल रही है| उसकी माँ रोज कोई न कोई रिश्ता लेकर आती है जिसे वो माना कर देती है| क्यूंकी वो लव मैरिज करना चाहती है| गिन्नी आज की युवती है जो अपने पैरों पे तो खड़ी है लेकिन शादी के फैसले मे उलझन मे रहती है |

गिन्नी की लाइफ मे निशांत नाम एक लड़का है| दोनों का कई बार ब्रेकअप हो चुका है लेकिन फिर वो मिलते है | निशांत और गिन्नी कॉलेज के अच्छे दोस्त है लेकिन शादी के फैसले मे दोनों कॉनफ्यूज है | कनफ्यूजन का अंदाज आप इसी बाद से लगा सकते है की गिन्नी ने निशांत का मोबाईल नंबर कॉनफ्यूज के नाम से सेव कर रखा है |

गिन्नी की माँ एक फ़ंक्शन मे सनी को देखती है,वो उसे अपनी लड़की के लिए पसंद कर लेती है| लेकिन रोड़ा है गिन्नी की लव लाइफ का डिसीजन | फिर क्या दोनों के परिवार लग जाते है की किसी तरह से गिन्नी सनी को पसंद कर ले | जिसमे गिन्नी की माँ सनी का साथ देती है की किसी तरह गिन्नी और सनी के लव केमिस्ट्री सेट हो जाए |

सनी को सफलता भी मिल जाती है लेकिन फिर से गिन्नी का एक्स बॉयफ्रेंड एंट्री मार लेता है | आगे की कहानी मुझे नहीं लगता है आपको बतानी चाहिए | बाकी अंत तो आपको पता है बस थोड़े बहुत ही सही कहानी मे ट्विस्ट एण्ड टर्न है लेकिन वो मजेदार नहीं है |